Poem

A Blank Paper

blank paper

A Blank Paper

As long as it is blank,

it is good.

As long as it is blank, 

without words.

Whenever someone wants, 

to write on that blank paper,

his own story. 

It pricks to this world, 

and the lines hurt. 

This existence wants to be erased 

from the rubber of complaints, 

expectations and rivalry, 

to the creation of that creator, 

and is satisfied that

the blank paper is blank.

कोरा कागज

कोरा कागज

तभी तक ही कोरा है, अच्छा है।

जब तक कि कोरा है,

बिना लिखा।

जब भी कोई उस कोरे कागज पर,

लिखना चाहता है अपनी कहानी।

चुभता है इस जमाने को,

अखरती हैं वो रेखाएं।

जो चुनौती देती हैं,

कोरेेपन के अस्तित्व को।

शिकायतों, अपेक्षाओं और प्रतिद्वंदिता की रबर से,

मिटा देना चाहता है ये जमाना,

उस रचनाकार की रचना को,

और संतुष्ट हो जाता है,

कि कोरा कागज कोरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top