Poem

Dreams in Cage

dreams in cage

Dreams in Cage

Some dreams,

Restless to fly,

Grooming the wings,

Waiting for the morning rays,

Looking at their paths,

In search of the aims,

Imprisoned in cages,

Lying in a corner,

In a dying state,

Waiting for a caretaker,

In the hope of breath in life,

In anticipation of the unlimited sky,

Some dreams, imprisoned in the boundary wall.

पिंजरे में सपने

कुछ सपने,
उड़ने को छटपटाते,
पंखों को संवारते,
सुबह की किरण के इंतजार में,
अपने राहों को देखते,
मंज़िलों की तलाश में,
पिंजरों में कैद हुए,
किसी कोने में पड़े हुए,
मरणासन्न अवस्था में,
किसी तीमारदार के इंतज़ार में,
साँसों में जीवन की आशा में,
असीमित आसमान की नई प्रत्याशा में,
कुछ सपने , चारदीवारी में कैद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top