Poem

Shut your face

shut your face

What I say and why?

I think this often.

Whenever I said,

No one has heard.

It Is very noisy,

Not that loudness in my voice,

Who muffled,

The noise of this meaningless world.

Stinging noise,

Deafening noise.

Which is buried in,

Many similar sounds.

And only remains sorry,

I wish someone was in this noise,

Could hear my voice.

क्या कहूं और क्यों कहूं,
अक्सर ये सोचता हूं।
जब कभी मैंने कहा,
किसी ने भी तो सुना नहीं।
है बहुत ही कोलाहल,
मेरी आवाज़ में वो तेज नहीं।
जो दबा सके,
इस निरर्थक दुनियां के शोर को।
चुभने वाला शोर,
कानों को बहरा कर देने वाला शोर।
जिसमें दब जाती हैं,
ऐसी ही बहुत सी आवाजें।
और रह जाता है सिर्फ अफ़सोस,
कि काश कोई इस शोर में,
मेरी आवाज़ को सुन पाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top