Poem

That is the same evening again

evening

That is the same evening again

Gathered a flock of birds,

Returning in nests on trees,

From the sky scattered through the clouds,

The tired sun, dusk in the arms of the earth

Bending over the burden of debt, shoulder to shoulder,

Returning farmer with plow and oxen,

Scorched, half-burned by the heat of the day.

Without the bumble-bee, shrinking withering flowers,

Soaked in mud, dirty clothes,

Children going to mother with small soft feet,

With a daily pay, on thin paths,

Workers coming back with their tools in hand,

Markets bathed in white lights,

Roads, cars, fairs, people’s crowd,

Cars took out for a walk with expensive tags,

Children, selling balloon in the queues on gleaming glassed closed vehicles,

That is the same evening again, known, as every day.

फि‍र वही शाम है।

फि‍र वही शाम है।

अपने झुंडों को समेटे हुए,

पेड़ों में घोसलों पर लौटते पक्षी,

बादलों से बिखरे आकाश से,

धरती के सीने में समाता थका सूरज,

कर्ज के बोझ से झुके, दबे कंधों पर,

हल और बैलों के साथ लौटता किसान,

दिन की गरमी से झुलसे, अधजले,

भौंरे विहीन, सिकुड़ते मुरझाते फूल,

मिट्टी में सने, गंदे कपड़ों में,

छोटे कोमल पैरों से मां के पास जाते बच्‍चे,

पतले पतले रास्‍तों पर दिहाड़ी की मुस्‍कुराहट लिए,

हाथों में अपने औजारों के साथ वापस आते मजदूर,

दूधिया रोशनी में नहाये हुए बाजार,

सड़कों पर सजे ठेले, मेले, लोगों के रेले,

मंहगे का तमगा लिए सैर सपाटे को निकली गाड़ियां,

चमचमाती शीशा बंद गाड़ियों पर कतारों में गुब्‍बारे बेचते बच्‍चे,

फि‍र वही शाम है, जानी पहचानी, रोज सी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top