Poem

Unwanted Shackles

shackles
Let’s add some courage.
 

Let’s break the shackles.

Some thin, some thick fetters.

Some light, some heavy fetters.

Entangled in soft feet,

Strict, lots of fetters.

Is tied to the threshold,

Some short, long chains.

Tingles at every step.

Mindless, ignorant fetters.

Why stop knowing,

Identify yourself your fetters.

Before every destination,

Some broken unwanted shackles.

Let’s add some courage.

Let’s break the shackles.

चलो कुछ हौसला जोड़ते हैं।

चलो बेड़ियां तोड़ते हैं।

कुछ पतली कुछ मोटी बेड़ियां।
 
कुछ हल्की कुछ भारी बेड़ियां।
 
मुलायम पांवों में उलझी हुई,
 
सख्त, बहुत सारी बेड़ियां।
 
बंधी हुई हैं दहलीज तक,
 
कुछ छोटी, कुछ लंबी बेड़ियां।
 
हर कदम पर चुभती हैं।
 
नासमझ, अनजानी बेड़ियां।
 
जाने क्यों रोकती हैं ,
 
खुद की पहचानी अपनी बेड़ियां।
 
हर मंजिल के पहले हैं,
 
कुछ टूटी अनचाही बेड़ियां।
 
चलो कुछ हौसला जोड़ते हैं।
 
चलो बेड़ियां तोड़ते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top